बेवफ़ाई

जब दिल टूटता है

96 Posts

2133 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 2555 postid : 1093

प्लीज़ मेरा बलात्कार करो….

Posted On 12 Mar, 2012 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

 

अभी हाल फिलहाल में चुनाव प्रचार के दौरान माननीय मुलायम सिंह यादव जी ने घोषणा किया था की बलात्कार पीड़िता को सरकारी नौकरी देंगे..तो क्या ये अब संभव होगा वो भी तब जब प्रदेश में मुलायम जी बिना किसी बैसाखी के आये हो..आज जब समाज में इतनी बेरोजगारी,गरीबी है तो क्या लोग नौकरी पाने के लिए हर तरह के प्रयास नही कर सकते फिर चाहे वो खुद का बलात्कार भी क्यों न हो..बहुत से ऐसे मामले मीडिया में हजारो बार आये है की नौकरी के लालच में लड़के-लड़कियां क्या -क्या कर जाते है,घूस,शारीरिक शोषण और भी बहुत कुछ..और जब प्रदेश के मुखिया ही एक रास्ता दिखा दे सरकारी नौकरी पाने का तो ये तो मांगी मुराद मिल जायेगी बेरोजगारों को.जनता से एक स्वस्थ वादा तो ये नहीं कर पा रहे है बल्कि ऊलजलूल बातें जरूर कर रहे है.सारे नेता मंत्री बस यही गिनाते फिर रहे है की विपक्ष के राज में 150 बलात्कार,200 हत्या 500 चोरी हुई हमारे राज में तो सिर्फ 90 बलात्कार,190 हत्या ,400 चोरी हुई..मानो क्रिकेट का मैच चल रहा हो और गेंदबाज ये गिना रहा हो की मेरे ओवर में कितने रन पिटे कितना विकेट आया.शर्म आनी चाहिए ऐसे नेताओं को…
इस समय हमारे देश की राजनीति धरातल में चली गयी है नेता सिर्फ अपनी जीत पक्की करने के लिए क्या -क्या कर जाएँ कोई कुछ नहीं कह सकता.. बस यही सोचते सोचते नींद आ गयी और मै एक गहरी नींद के रास्ते एक दिवा स्वप्न में चला गया…..

मै एक बेरोजगार युवक बी.ए. ,एम.ए. किया और साथ में बी.एड. भी मै तीन साल से बेरोजगार था बहुत भटक रहा था बहुत नेता मंत्री अधिकारी के पैर छुए..घूस भी दिया लेकिन नतीजा वही ढाक के तीन पात…बहुत निराश हो चुका था..घर में बड़े भाई साहब अकेले कमाने वाले उनके दो बच्चे बीवी और माँ इनका खर्च और साथ में मुझ बेरोजगार का खर्च बहुत बढ़ चुका था अब मेरे भाई साहब की सहनशीलता जवाब देने लगी थी मेरी छोटी सी गलती पर बहुत गुस्सा होना साफ़ दिखा रहा था की वो अब इतना खर्च नहीं उठा पा रहे है..मैंने फिर प्राइवेट नौकरी करने की सोची और एक मोबाइल की दुकान में 5000 रूपये की नौकरी कर ली और अपने स्वाभिमान को गिरवी रख दिया..मै नौकरी तो कर रहा था मगर सरकारी नौकरी का ख़्वाब दिमाग से जाता ही नहीं था..

बहुत निराश मन से जिंदगी काट रहा था..एक दिन मेरे मोबाईल शॉप पर काम करने वाली लड़की ने मुझे कॉफ़ी पीने का न्योता दिया..और वादे के अनुसार मै शाम को नौकरी से छूटकर सीधा उसके साथ कॉफ़ी पीने गया..

 

Coffe 

 

थोड़ी देर तक हम लोग सामान्य बाते करते रहे..अचानक उस लड़की ने मुझे बोला की आपने सुना मुलायम सिंह जी ने क्या कहा? मै बोला क्या? आजकल तो मै टीवी और अखबार से बहुत दूर हूँ..लड़की ने बोला–मुलायम सिंह जी ने बोला है की अगर 2012 में उत्तर प्रदेश में उनकी सरकार बनती है तो वो बलात्कार पीड़िता को सरकारी नौकरी देंगे..ये सुनते ही मै चौक गया और बोला क्या ये भी कोई वादा है..क्या अब कुछ बचा नहीं है इन नेता और मंत्री को करने के लिए.ये तो भ्रस्टाचार को बढ़ावा है..तो लड़की ने तुरंत मुझे चुप रहने को बोला..और बोला की तुम चुप रहो और मेरी बात सुनो..ये बताओ आजकल सरकारी नौकरी में सबसे निचले पद पर जो लोग काम कर रहे है उन्हें क्या वेतन मिलता है..मैंने बोला..लगभग 18000 रूपये .लड़की ने बोला और घूस ..मैंने बोला वो तो सरकारी नौकरी में तो मिलता ही है..तो लड़की ने बोला कुल मिलकर 25000 रूपये से कम की नौकरी नहीं होती..और काम भी कुछ नहीं करना होता..मैंने बोला हां ये भी सही है..लेकिन तुम मुझे ये सब क्यूँ बता रही हो..तो उसने बोला की “प्लीज़ मेरा बलात्कार करो”.. मैंने चौकते हुए बोला क्या…लड़की ने बोला हां..प्लीज़ तुम मेरा बलात्कार करो ..उसके बाद मुझे जो नौकरी मिलेगी उसमे तुम्हे 60 % हर महीने वेतन का दूँगी..फिर 1 साल नौकरी करने के बाद हम लोग कोर्ट के बाहर समझौता कर लेंगे..अगर इससे कोई बात नही बनेगी तो भी कोई दिक्कत नही..कहा हिन्दुस्तान में इतनी जल्दी किसी मुकदमे की सुनवाई हो जाती है..हम लोग आराम से रहेंगे और मुकदमा भी 25 -30 साल चलेगा..कैसा रहा मेरा आइडिया ये कहते हुए वो लड़की कुछ सोचने लगी…और मै भी …फिर मैंने उसे बोला की यार पुलिस मारती बहुत है तो लड़की बोलती है..इस बेरोजगारी की मार से अच्छा है 1 दिन की पुलिस की मार…

तभी मम्मी ने जोर से हिलाया और मै चिल्ला उठा मुझे मत मारो मैंने कुछ नहीं किया..मम्मी ने कहा हां हाँ मुझे पता है तुमने कुछ नही किया रात दिन ब्लाग में लगा रहता है उसे छोड़ेगा तभी तो कुछ करेगा..फिर मै जल्दी से मम्मी की नज़रों से ओझल हो गया…और छत पर जाकर सोचने लगा की हमारे देश और प्रदेश में कितनी बेरोजगारी है लोग एक नौकरी के लिए किसी भी स्तर पर जाने को और कुछ भी करने को तैयार है उप्पर से ऐसा गैरजिम्मेदाराना बयान..भ्रस्टाचार को कितना बढ़ावा देगा जिसका कोई हिसाब नहीं होगा..आज समाज में बेरोजगारी,गरीबी इस कदर हावी है की आप खुद कल्पना करे की अगर किसी को नौकरी पाने का कोई रास्ता दिखे तो वो इंसान क्या कर सकता है..

नेता जी का बयान इस बात को साफ़ दर्शा रहा है की हमारे देश को अब एक पढ़े लिखे नेताओं की बहुत जरूरत है..जो जिम्मेदारी भरा त्वरित और निर्णायक फैसला कर सके..साथ ही साथ संविधान में भी महत्वपूर्ण बदलाव आवश्यक है…

 

 

आकाश तिवारी

 

 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (8 votes, average: 4.88 out of 5)
Loading ... Loading ...

49 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

prasoon shukla के द्वारा
April 10, 2014

ोaakas g pranam bhut hi aacha lek diya tha aapne desh aapki aisi hi ptikrya ka intjar kr Raha hai Hume summed hai aap is samy desh ko ek aacha margdrsn denge aap ki umda vichat k liye ek bar fir se vadai aapka chota Bhai Prasoon Shukla

satya kishor maurya के द्वारा
July 2, 2012

very nice and sensitive thought.

shashibhushan1959 के द्वारा
March 15, 2012

आदरणीय आकाश जी, सादर ! बहुत धारदार व्यंग्य इन नेताओं पर ! सच्चाई के नजदीक ! बधाई !

    Aakash Tiwaari के द्वारा
    March 15, 2012

    आदरणीय श्री शशिभूषण जी, प्रतिक्रिया हेतु आपका तहे दिल से शुक्रिया….. आकाश तिवारी

    Aakash Tiwaari के द्वारा
    March 16, 2012

    मै आपसे उम्र में बहुत छोटा हूँ..कृपया आदरणीय का सम्बोधन न करें… आकाश तिवारी

Amita Srivastava के द्वारा
March 15, 2012

आकाश जी इन अवसरवादी नेताओ की घटिया राजनीती पर एक उम्दा लेख

    Aakash Tiwaari के द्वारा
    March 15, 2012

    अमिता जी, राजनीति तो घटिया हो ही चुकी है… आपने मेरे लेख को पढ़ा अच्छा लगा प्रतिक्रिया हेतु आपका तहे दिल से शुक्रिया आकाश तिवारी

chandanrai के द्वारा
March 15, 2012

सादर नमस्कार! आपका व्यंग्य सच्चाई से ज्यादा दूर नही है ,..खोटी मानसिकता पर प्रहार करता बढ़िया लेख ,. Pls. comment on http://chandanrai.jagranjunction.com/Berojgar

    Aakash Tiwaari के द्वारा
    March 15, 2012

    चन्दन जी, मेरा लेख ज्यादा कठिन शब्दों से नहीं बनता..मै चाहता हूँ जो कहूँ सब समझे…आपने पढ़ा..प्रतिक्रिया दी..तहे दिल से शुक्रिया.. आकाश तिवारी

March 15, 2012

आकाश जी सच्चाई बयान करता और आज की राजनैतिक सोच को उजागर करता व्यंग बहुत सुंदर लगा। आपको बहुत बहुत बधाई !! सुंदर लेख !!

    Aakash Tiwaari के द्वारा
    March 15, 2012

    सूरज जी, आपने मेरे लेख को पढ़ा अच्छा लगा प्रतिक्रिया हेतु आपका तहे दिल से शुक्रिया.. आकाश तिवारी

rudrapunj के द्वारा
March 15, 2012

आदरणीय …..सादर प्रणाम …………हम मूर्ख दिवस (१ अप्रैल) की पूर्व संध्या (३१ मार्च ) पर एक वार्षिक पत्रिका “धुरंधर हास्य पत्रिका” का प्रकाशन करतें हैं |पत्रिका का इस वर्ष तृतीय संस्करण आ रहा है | आपसे विनम्र निवेदन है कि इस पत्रिका हेतु अपनी कोई एक हास्य-व्यंग रचना अथवा हास्य-व्यंग आलेख दिनांक २० मार्च २०१२ तक फेस बुक अथवा हमारे ईमेल आईडी ,अथवा मेरे प्रोफाइल के इवेंट में हास्य आयोजन में धुरंधर हास्य महोत्सव ग्रुप है उसमें पर भेजने कि कृपा करें |आपका —रुद्रनाथ त्रिपाठी “पुंज (एडवोकेट)”युवा हास्य-व्यंगकार,गीतकार —उपसंपादक — “धुरंधर हास्य पत्रिका” ईमेल rudrapunj@rediffmail .com

    Aakash Tiwaari के द्वारा
    March 15, 2012

    तो क्या आप मेरी रचनाओ का इस्तेमाल खुद के नाम से करेंगे.. आकाश तिवारी

Rakesh के द्वारा
March 14, 2012

आकाश जी, बहुत बढ़िया व्यंग. शानदार :)

    Aakash Tiwaari के द्वारा
    March 15, 2012

    राकेश जी, आपने मेरे लेख को पढ़ा अच्छा लगा प्रतिक्रिया हेतु आपका तहे दिल से शुक्रिया.. आकाश तिवारी

झंकार के द्वारा
March 14, 2012

बहुत मजेदार आइडिया चुना है. शानदार व्यंग्य . थोड़ी और रंगाई पुताई करते सर, छोटे में समेट दिया. लेकिन गजब है फिर भी .

    Aakash Tiwaari के द्वारा
    March 15, 2012

    आपने मेरे लेख को पढ़ा अच्छा लगा प्रतिक्रिया हेतु आपका तहे दिल से शुक्रिया.. आकाश तिवारी

kanafoosi के द्वारा
March 14, 2012

करारा व्यंग…………..बधाई !

    Aakash Tiwaari के द्वारा
    March 15, 2012

    आपने मेरे लेख को पढ़ा अच्छा लगा प्रतिक्रिया हेतु आपका तहे दिल से शुक्रिया आकाश तिवारी

March 13, 2012

सादर नमस्कार! हकीकत को वयां करता हुआ लेख…….समस्या को उसके मूल रूप में उजागर करता है….हार्दिक आभार.

    Aakash Tiwaari के द्वारा
    March 15, 2012

    अनिल जी, आपने मेरे लेख को पढ़ा अच्छा लगा प्रतिक्रिया हेतु आपका तहे दिल से शुक्रिया आकाश तिवारी

Santosh Kumar के द्वारा
March 13, 2012

आकाश जी ,..आपका व्यंग्य सच्चाई से ज्यादा दूर नही है ,..खोटी मानसिकता पर प्रहार करता बढ़िया लेख ,.यह पहले भी प्रकाशित किया था न ..

    Aakash Tiwaari के द्वारा
    March 15, 2012

    संतोष जी, यह लेख मैंने कभी प्रकाशित नही किया..मेरा व्यंग सच्चाई से कभी दूर नही रहता..आज नहीं तो कल ये होगा… आपने मेरे लेख को पढ़ा अच्छा लगा प्रतिक्रिया हेतु आपका तहे दिल से शुक्रिया आकाश तिवारी

मनु (tosi) के द्वारा
March 13, 2012

आकाश जी ! अच्छा लेख … ये राजनीति बहुत ही गंदी सोच को जन्म देती है । अच्छा प्रहार करता लेख ….बधाई

    Aakash Tiwaari के द्वारा
    March 15, 2012

    मनु जी, आज राजनीति ही गन्दी हो चुकी है..यदि कोई बदलाव लाना चाहे तो उसकी सजा मौत से कम नही… आपने मेरे लेख को पढ़ा अच्छा लगा प्रतिक्रिया हेतु आपका तहे दिल से शुक्रिया आकाश तिवारी

yogi sarswat के द्वारा
March 13, 2012

आकाश जी नमस्कार ! निर्भीक , सटीक और सत्य व्यंग्य ! ये नेता लोग बलात्कार को एक धंधा बना रहे हैं ! नारी की अस्मिता की कीमत एक नौकरी ? जो उसका गहना होता है , जो उसका जीवन होता है ! तो क्या नौकरी उसकी इज्ज़त से ज्यादा कीमती है ? ये इस मुल्क में ही संभव है !

    Aakash Tiwaari के द्वारा
    March 15, 2012

    योगी जी, मुझे किसी का डर नही..इस मुल्क में तो हर वो चीज संभव है जो गैरकानूनी है.. आपने मेरे लेख को पढ़ा अच्छा लगा प्रतिक्रिया हेतु आपका तहे दिल से शुक्रिया आकाश तिवारी

alkargupta1 के द्वारा
March 13, 2012

आकाश जी , ये सभी नेता लोग स्वार्थ वश अपना अपना कार्य सिद्ध कर रहे है….. सत्ता तो मिल ही गयी है आज नहीं तो कल इन पर भी स्वार्थ का भूत सवार होगा…… बहुत बढ़िया करारा प्रहार किया है……..

    Aakash Tiwaari के द्वारा
    March 15, 2012

    आदरणीया अलका जी, आजके वक्त में राजनीति का स्तर खत्म हो गया है..सब के सब बस किसी न किसी तरह से पैसा कमाना चाहते है बस.. प्रतिक्रिया हेतु आपका तहे दिल से शुक्रिया आकाश तिवारी

minujha के द्वारा
March 13, 2012

आकाश जी बङा करारा व्यंग साधा है आपने नई सरकार पर,निशा दी से सहमत हुं ये तो सीधे तौर पर व्याभिचार को बढावा देना हुआ अच्छा कटाक्ष

    Aakash Tiwaari के द्वारा
    March 15, 2012

    मीनू जी, बिलकुल इन राजनेताओं को तो सिर्फ अपनी तिजोरी से मतलब है..भले चाहे कसी की इज्जत आबरू लूटे…. आपने मेरे लेख को पढ़ा अच्छा लगा प्रतिक्रिया हेतु आपका तहे दिल से शुक्रिया आकाश तिवारी

abodhbaalak के द्वारा
March 13, 2012

आकाश जी क्या बात है यार, क्या सोचा है, बलके कई लोगो को क्या आइडीया …………. व्यंग में भी रस है ….. http://abodhbaalak.jagranjunction.com/

    Aakash Tiwaari के द्वारा
    March 15, 2012

    अबोध जी कहा है आप कोई रचना नही आ रही है आपकी आजकल.. कृपया करके इसे आडिय न बोले.. प्रतिक्रिया हेतु आपका तहे दिल से शुक्रिया आकाश तिवारी

dineshaastik के द्वारा
March 13, 2012

आकाश जी मुलायम के इस तरह के बेतुके एवं विवादित बयान से इस तरह के खवाब आना स्वाभाविक है। कब तक ये नेता इस तरह के बयानों से जनता का बलात्कार करते रहेंगे और हम खमोशी से तमाशा देखते रहेंगे। ये रात कब जायेगी…..जागो तभी सुबह होगी। सुन्दर एवं सराहनीय कल्पित रचना। http://dineshaastik.jagranjunction.com/author/dineshaastik/

    Aakash Tiwaari के द्वारा
    March 15, 2012

    दिनेश जी. बहुत घटिया राजनीति का दर्शन कराया है..आजके नेताओं ने… आपने मेरे लेख को पढ़ा अच्छा लगा प्रतिक्रिया हेतु आपका तहे दिल से शुक्रिया आकाश तिवारी

ajaydubeydeoria के द्वारा
March 13, 2012

नेता जी को कुर्सी मिल ही गयी है.आगे-आगे देखिये होता है क्या…..

    Aakash Tiwaari के द्वारा
    March 15, 2012

    अजय जी, देखते है…क्या होता है.. आपने मेरे लेख को पढ़ा अच्छा लगा प्रतिक्रिया हेतु आपका तहे दिल से शुक्रिया आकाश तिवारी

nishamittal के द्वारा
March 13, 2012

आकाश जी बहुत दुखद है कि नेता स्वार्थवश ऐसे वाडे करते हैं तो समाज में व्यभिचार और अनाचार क्यों नहीं बढेगा.पैना व्यंग्य.

    Aakash Tiwaari के द्वारा
    March 15, 2012

    आदरणीया निशा जी, ऐसे गंदे राजनेताओं ने हमारे देश प्रदेश को बर्बाद क्र दिया है.. आपने मेरे लेख को पढ़ा अच्छा लगा प्रतिक्रिया हेतु आपका तहे दिल से शुक्रिया आकाश तिवारी

jlsingh के द्वारा
March 12, 2012

मेरी जीत हुई, दूं क्या तोहफा बता, खुश रहे तू सदा, मैं भी सदा… मुलायम दिल को बहलाने का ग़ालिब ये ख्याल अच्छा है!… बहुत ही सुन्दर व्यंग्य के साथ नुकीली सुई चुभती रचना! आप आकाश को छुएँ पर बिना किसी के अहसान के!!!!

    Aakash Tiwaari के द्वारा
    March 15, 2012

    jl सिंह जी, आपने मेरे लेख को पढ़ा अच्छा लगा प्रतिक्रिया हेतु आपका तहे दिल से शुक्रिया आकाश तिवारी

chaatak के द्वारा
March 12, 2012

स्नेही आकाश जी, सादर अभिवादन, मुलायम राज में अभी ऐसे न जाने कितने नायब नुस्खे पनाए जाएंगे| अच्छे लेखन पर बधाई!

    Aakash Tiwaari के द्वारा
    March 15, 2012

    आदरणीय चातक जी, आपकी प्रतिक्रिया मिलती है तो और भी लिखने का मन करता है.. आपने मेरे लेख को पढ़ा अच्छा लगा प्रतिक्रिया हेतु आपका तहे दिल से शुक्रिया आकाश तिवारी

PRADEEP KUSHWAHA के द्वारा
March 12, 2012

स्नेही आकाश. प्रसन्न रहें. ये वादा तो मैं भूल ही गया था. कितने सजग हैं हमारे नेता. मुझे तो अपने आप पर शर्म आ रही है. आने वाले दिनों में क्या होगा भगवन ही जानता है. प्रस्तुति हेतु बधाई. जैसा अपने कहा था लोग इन सेट्टिंग में खोल दें .मैं ज्यादा जानकर नहीं हूँ कुछ किया है. न हुआ हो तो बताइए .

    Aakash Tiwaari के द्वारा
    March 12, 2012

    आदरणीय कुशवाहा जी, प्रतिक्रिया हेतु आपका तहे दिल से शुक्रिया.. आपके प्रश्न को मै समझा नही..माफ़ कीजियेगा… आकाश तिवारी

    PRADEEP KUSHWAHA के द्वारा
    March 12, 2012

    आप भ्रष्टाचार आरती पर कमेन्ट किये थे की सेट्टिंग में लोग इन खोल दें, कमेन्ट करने में सुविधा रहेगी, देखें, मार्गदर्शन यदि कोई हो तो.

    Aakash Tiwaari के द्वारा
    March 16, 2012

    आदरणीय प्रदीप जी, आपकी पोस्ट पर मैंने जवाब लिख दिया है.. आकाश तिवारी

Jeevan Jyoti के द्वारा
March 12, 2012

आकाश जी आपके इस सम सामयिक लेख को पढ़ कर मैं खुश हुआ. आपके सुझाव वाकई अमल करने योग्य है. लेकिन यह तभी संभव है जब संविधान में संसोधन किया जाय, जो आज के नेताओं से संभव नहीं है. लोकपाल जैसे कानून को बनाने में हमारे नेताओं द्वारा जिस तरह से हो हल्ला मचाया गया वो जग जाहिर है. संसोधन जब होगा तब, कानून जब बनेगा तब, इसके पहले हम मतदाताओं को ही चेतना होगा, हमें चाहिए कि हम उन्ही नेताओं को चुने जो पढ़ा लिखा और ईमानदार हो. तब कहीं जाकर हमारे देश में सही कानून बनेगा और भ्रष्टाचार दूर होगा, बेरोजगारी घटेगी……… सुन्दर आलेख के लिए साभार.

    Aakash Tiwaari के द्वारा
    March 12, 2012

    जीवन ज्योति जी, आप प्रथम बार मेरे ब्लॉग पर आये बहुत अच्छा लगा.. स्नेही प्रतिक्रिया हेतु आपका तहे दिल से शुक्रिया.. आकाश तिवारी


topic of the week



latest from jagran